Showing posts with label हिंदी शायरी. Show all posts
Showing posts with label हिंदी शायरी. Show all posts

Thursday, November 17, 2016

अपने महबूब को खुदा कर दिया

वो हमें भूल भी जायें तो कोई गम नहीं,
जाना उनका जान जाने से भी कम नहीं,


जाने कैसे ज़ख़्म दिए हैं उसने इस दिल को,
कि हर कोई कहता है कि इस दर्द की कोई मरहम नहीं.




अपना होगा तो सता के मरहम देगा,
जालिम होगा अपना बना के जख्म देगा,

समय से पहले पकती नहीं फसल,
अरे बहुत बरबादियां अभी मौसम देगा.